वाक़िये अनगिनत है जिंदगी के,   किताब लिखू या हिसाब लिखूं

वाक़िये अनगिनत है जिंदगी के, किताब लिखू या हिसाब लिखूं

वाक़िये अनगिनत है जिंदगी के,

किताब लिखू या हिसाब लिखूं .