इश्क की चाकरी मिलती नहीं खैरात में , दिल में फकीरी और फितरत सूफियाना चाहिए।*

इश्क की चाकरी मिलती नहीं खैरात में , दिल में फकीरी और फितरत सूफियाना चाहिए।*

इश्क की चाकरी मिलती नहीं खैरात में ,

दिल में फकीरी और फितरत सूफियाना चाहिए।*